National news,महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोवा में बाढ़ से बचाव के लिए राहत कार्य तेज ,सेना के तीनों अंगों के द्वारा लगातार युद्ध स्तर पर किए जा रहे हैं बाढ़ राहत कार्य



  • भारतीय सेना के कार्यबलों ने महाराष्ट्र के तीन सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में राहत और बचाव कार्य संचालित किया
  • भारतीय नौसेना की टीमों ने कर्नाटक में 200 से अधिक लोगों को निकाला
  • भारतीय वायु सेना द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में एनडीआरएफ के लगभग 400 राहतकर्मियों को पहुंचाया गया
  • और अधिक बचाव दल और विमान स्टैंडबाय पर
नई दिल्ली, महाराष्ट्र। असल बात न्यूज़।
महाराष्ट्र कर्नाटक और गोवा के कई हिस्से अभी बाढ़ की बुरी तरह से चपेट में है।इन इलाकों में लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है और कई लोग बाढ़ में फंसे हुए हैं।सरकार ने बाहर से बचाव तथा राहत कार्य तेज कर दिया है। बाढ़ से बचाव तथा राहत कार्य पहुंचाने के लिए सेना की मदद ली जा रही है। सेना के तीनों अंगों के जवान बाढ़ से बचाव के लिए लोगों की मदद कर रहे हैं।

महाराष्ट्र के रत्नागिरीकोल्हापुर और सांगली जिलों के प्रशासन के साथ करीबी समन्वय बना कर काम करते हुएभारतीय सेना ने प्रभावित क्षेत्रों में इन्फैंट्रीइंजीनियर्ससंचाररिकवरी और मेडिकल टीमों सहित अपनी टास्कफोर्सेज़ को तैनात किया है । इन टीमों ने चिपलूनशिरोलहाटकंगलपलुस और मिराज क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्य किया और कीमती जानें बचाईं।

image0019YWY.jpg

image002ZD6T.jpg

कर्नाटक में भारतीय नौसेना ने बाढ़ राहत कार्यों के लिए नौसेना के गोताखोरोंरबर 'जेमिनीनावोंलाइफ जैकेट और चिकित्सा उपकरणों के साथ सात बेहतर ढंग से सुसज्जित बाढ़ राहत दलों की तैनाती की। टीमों ने कादरा बांध के पास सिंगुड्डा और भैरे गांवों से 165 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर निकालाजबकि 70 लोगों को कैगा के निचले इलाकों से निकाला गया।

image003788U.jpg

नौसेना के सीकिंगएडवांस लाइट हेलीकॉप्टर और भारतीय वायु सेना के एमआई-17 हेलीकॉप्टरों ने अनेक उड़ानें भरीं और जल स्तर में अचानक और तेज वृद्धि के कारण फंसे लोगों की जान बचाई। उन्होंने प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण भी किया ताकि वरिष्ठ अधिकारी स्थिति का आकलन कर सकें और बचाव और राहत कार्यों की योजना बना सकें।

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के लगभग 400 कर्मियों को भारतीय वायु सेना के विमानों द्वारा भुवनेश्वरकोलकाता और वडोदरा से पुणेकोल्हापुर और महाराष्ट्र के रत्नागिरी और गोवा 40 टन बचाव उपकरणों के साथ एयरलिफ्ट किया।

image004M4S9.jpg

image0051HPS.jpg

सेना के तीनों अंगों की टीमें बाढ़ प्रभावित स्थानीय लोगों को भोजनपानीचिकित्सा मुहैया कराने के अलावा उन्हें बचाने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रही हैं। अधिक बचाव दल और विमान तैनाती के लिए तैयार हैं।