नेवई में उत्पात मामले में अभी गिरफ्तारी शेष, पुलिस को भारी मशक्कत के बाद उत्तेजित भीड़ को मनाने में मिली सफलता

 रिसाली, भिलाई। असल बात न्यूज़।

दुर्ग जिले के नेवई थाना  के अंतर्गत आने वाले मार्केट क्षेत्र में  उत्पाती तत्वों के द्वारा दिन भर जमकर उत्पात मचाने और कई लोगों से मारपीट करने, धमकी देने के मामले में अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। पुलिस के द्वारा मामले में दोनों पक्षों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया गया है। बताया जा रहा है कि इस मामले को लेकर नेवई के स्थानीय निवासी एकजुट हो गए हैं। जानकारी के अनुसार वहां हंगामा करने  पहुंचे युवकों में से तीन को भीड़ ने पकड़कर जमकर पीटा है। इन युवकों को चोटे आई है। अन्य युवक मौका देख कर  वहां से  फरार हो गए थे।

बताया जाता है कि बाहर से गुंडागर्दी करने से उत्तेजित स्थानीय निवासियों की भीड़ को समझाने, मनाने में पुलिस बल को  बड़ी मशक्कत के बाद सफलता मिली। भीड़ में शामिल लोग बाहर से आकर वहां दुकानदारों से मारपीट करने, गुंडागर्दी करने और धमकी देने के कृत्य से जमकर नाराज हो उठे थे। पुलिस के द्वारा उन्हें किसी तरह से समझाया गया।

 प्राप्त जानकारी के अनुसार मामले में पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 427, 147, 324, 506, 148, 147, 294 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है।

स्थानीय पुलिस तथा अन्य सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह मामला तब शुरू हुआ जब सुपेला तथा कैंप क्षेत्र के कुछ युवको का नेवई में over bridge के पार सड़क के किनारे लगे नाश्ता ठेले में नाश्ता करने के दौरान पूड़ी देने में देरी हो जाने पर नाश्ता परोसने वाले तथा ठेला संचालक  से विवाद हो गया। सुबह की  घटना के बाद ये युवक दोपहर में फिर अपने कई और साथियों के साथ वहां पहुंच गए और उत्पात मचाने लगे।बताया जाता है कि इस दौरान उन लोगों ने वहां अंडा ठेला, फल ठेला को पलट दिया और दुकानदारों को धमकाने लगे। तब वहां आसपास के लोग भी एकजुट हो गए और भीड़ जमा हो गई।

 भीड़ ने युवकों को घेर लिया। मौका देख कर बाकी युवक तो भाग गए। दो युवकों को भीड़ ने पकड़ लिया। इस बीच किसी के द्वारा इन युवकों को पर धारदार हथियार से हमला कर देने की जानकारी मिली है जिससे युवकों को चोटे आने की जानकारी मिली है।

नेवई पुलिस के द्वारा युवकों का मुलाहिजा कराया गया है। मामले में और पूछताछ तफ्तीश जारी है।इस घटना के बाद क्षेत्र के लोगों में आक्रोश दिख रहा है और उत्पाती युवकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की जा रही है।