प्रभारी मंत्री गुरू रूद्र कुमार ने की मुंगेली जिले में संचालित विकास कार्यो की समीक्षा

 

बिलासपुर,मुंगेली । असल बात न्यूज़।


 प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और ग्रामोंद्योग मंत्री  तथा जिले के प्रभारी मंत्री  गुरू रूद्र कुमार ने जिला कलेक्टोरेट स्थित मनियारी सभा कक्ष में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में संचालित विकास कार्यो की समीक्षा की।  समीक्षा बैठक में शामिल बिल्हा विधान सभा क्षेत्र के विधायक और छत्तीसगढ़ विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष  धरमलाल कौशिक, मुंगेली विधान सभा क्षेत्र के विधायक  पुन्नू लाल मोहले, लोरमी विधान सभा क्षेत्र के विधायक  धर्मजीत सिंह ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और ग्रामोंद्योग मंत्री  गुरू रूद्र कुमार के मुंगेली जिले के प्रभारी मंत्री बनने पर उन्हे अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होने कहा कि गुरू जी के नेतृत्व में मुंगेली जिले के विकास कार्यो की दक्षता में बढ़ोत्तरी होगी।

सभी ने उन्हें बधाई देते हुए कहा कि विकास कार्यो के कियान्वयन से आम जनता को और अधिक लाभ होगा। जिसके फलस्वरूप मुंगेली जिले का समन्वित विकास होगा। इस हेतु उन्होने एक साथ मिलकर कार्य करने की बात कहीं। इसके लिए प्रभारी मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार ने सभी जनप्रतिनिधियों को धन्यवाद दिया। उन्होने जिले के सभी अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों की बातों को गंभीरता से सुनने के साथ ही लोगों की समस्याओं का तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिये। इसके पूर्व कलेक्टर श्री अजीत वसंत ने जिले के प्रभारी मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार को पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया। 

प्रभारी मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार ने कहा कि जिले में कोविड-19 के बेहतर नियंत्रण के लिए जनप्रतिनिधियों सहित अधिकारी-कर्मचारियों ने बेहतर ताल-मेल के साथ कार्य किया है। जिसके परिणाम स्वरूप मुंगेली जिले में कोरोना का प्रभाव कम हुआ है। किन्तु अभी भी सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होने जिले में  कोरोना के संभावित तीसरी लहर की रोकथाम के लिए की जा रही तैयारियों की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होने कहा कि आम जनता को बेहतर से बेहतर चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिला चिकित्सालय मुंगेली को सभी प्रकार की चिकित्सकीय सुविधाओं से लेस किया जाएगा। जिला चिकित्सालय में सभी विषय विशेषज्ञों के अलावा सभी प्रकार के रिक्त पदो पर भर्ती की जाएगी। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कोरोना के कारण काल के गाल में समा गए लोगों के परिजनों को राहत देने पर जोर दिया जा रहा है। महतारी दुलार योजना इसी का परिणाम है। उन्होने इस योजना से उन सभी पात्र पीड़ितो को लाभान्वित करने के निर्देश दिये। इसके साथ ही उन्होने कोरोना के कारण मृत शासकीय कर्मियों के अनुकम्पा नियुक्ति के प्रकरणों को शीघ्रातिशीघ्र निराकृत करते हुए नियुक्ति पत्र जारी करने के भी निर्देश दिये।  

उन्होने कहा कि मुंगेली जिला कृषि प्रधान जिला है। यहां मनियारी नदी पर वृहद परियोजना मनियारी जलाशय सहित 21 लद्यु सिंचाई योजनाएं और 38 एनीकट का निर्माण किया गया है। जिससे सिंचाई हेतु पानी किसानों के खेतो तक पहुॅचाया जाता है। इस अवसर पर उन्होने मनियारी बैराज और पथरिया बैराज के अपूर्ण कार्यो को पूरा करने के निर्देश दिये। इसी तरह उन्होने कहा कि राज्य में वृक्षा रोपण को प्रोत्साहित करने के लिए मुख्यमंत्री वृक्षा रोपण प्रोत्साहन योजना की शुरूआत की गई है। इस योजना के तहत जिन किसानों ने खरीफ वर्ष 2020 में धान की फसल ली हो। यदि वे धान की फसल के बदले अपने खेतो में वृक्षा रोपण करते है तो उन्हे आगामी तीन वर्षो तक प्रति वर्ष 10 हजार रूपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इस हेतु उन्होने इस योजना में अधिक से अधिक किसानों को जोड़ने के निर्देश दिये। इसी क्रम में उन्होने फसल उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि आदान सहायता हेतु राजीव गांधी किसान न्याय योजना का कियान्वयन किया जा रहा है। उन्होने कहा कि इस योजना के तहत वर्ष 2020-21 में जिस रकबे से किसान द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय किया था। यदि वह धान के बदले कोदो, कुटकी, गन्ना, अरहर, मक्का, सोयाबीन, दलहन, तिलहन, सुंगधित धान और अन्य फोटिफाइट धान की खेती करता है, तो उन्हे प्रति एकड़ 10 हजार रूपया आदान सहायता दी जाएगी। इस संबंध में उन्होने पंजीकृत किसानों के संबंध में जानकारी प्राप्त की और आवश्यक निर्देश दिये। 

बैठक में प्रभारी मंत्री श्री गुरू रूद्र कुमार ने प्रधान मंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, महात्मा गंाधी राष्ट्रीय रोजगार योजना, गोधन न्याय योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, राजस्व विभाग के लंबित प्रकरण, डीएम एफ में स्वीकृत राशि और कार्यो की स्वीकृति, जिले में संचालित स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी विद्यालय में भर्ती प्रक्रिया, शिक्षक-शिक्षिकाओं की संख्या, भवन, जल जीवन मिशन के कार्यो के साथ-साथ नगर पालिका मुंगेली, नगर पंचायत लोरमी और नगर पंचायत पथरिया में स्वीकृत जल अवर्धन योजना, जिले में संचालित उचित मूल्य दुकानों में भण्डारित खाद्यान्न और वितरण, खाद बीज की उपलब्धता, समितियों से धान का उठाव, क्षेत्राच्छादन, विद्युत विभाग, पुलिस विभाग आदि विभागों के कार्यो की प्रगति के संबंध में जानकारी प्राप्त की और संबंधितों को आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में कलेक्टर श्री अजीत वसंत ने बताया कि मुंगेली जिले में कोरोना के संभावित तीसरे लहर को देखते हुए जिला चिकित्सालय के समीप संचालित 100 बिस्तर डेडिकेटेड कोविड अस्पताल में आॅक्सीजननेटेड बैड की क्षमता को बढाते हुए 100 बिस्तरों में आॅक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। जिला चिकित्सालय मुंगेली में 50 बिस्तर आई सी.यू  की स्थापना कर इसमे से 30 पाईट आॅक्सीजन पाॅइप लाईन का कार्य पूर्ण किया गया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोरमी हेतु 30 पाईट आॅक्सीजन पाईप लाईन का कार्य पूर्ण कर शासन से 500 एल पी एम आॅक्सीजन प्लांट स्थापित किये जाने की स्वीकृति प्राप्त हुई है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोरमी, पथरिया एवं सरगांव में 4 बिस्तर आई सी यू. एवं 15 आॅक्सीजनेटेड बेड स्थापित की जा रहा है। जिले में संचालित कुल 25 स्वास्थ्य केंद्रो एवं 1 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 5 बिस्तर आॅक्सीजनेटेड बेड स्थापित की जा रही है। कोविड केयर सेंटर में बेड क्षमता के अनुसार सभी बिस्तरों हेतु आॅक्सीजन काॅन्सनट्रेटर की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। कोविड-19 संबंधित समस्त आवश्यक उपकरण, सामग्री, कन्ज्यूूमेबल्स एवं दवाईयों की आवश्यकतानुसार मांग पत्र प्रेषित की गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अंतर्गत रिक्त पदो पर भर्ती प्रक्रियाधीन है एवं जिला चिकित्सालय मुंगेली हेतु डी एम एफ मद से चिकित्सा विशेषज्ञों की भर्ती की जा रही है। उन्होने बताया कि छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना के अंतर्गत कुल 84 विद्यार्थियों का चयन किया गया है। इन विद्यार्थियों को लाभान्वित किया जा रहा है। इसी तरह उन्होने बताया कि तृतीय श्रेणी पदों पर अनुकम्पा नियुक्ति हेतु प्रावधानित 10 प्रतिशत पदो के सीमा बंधन को शिथिल करने के फलस्वरूप 37 पात्र व्यक्तियों को सहायक ग्रेड 03 एवं 05 व्यक्तियों को चतुर्थ श्रेणी के पद पर नियुक्ति दी गई है। लंबित प्रकरण पर शीघ्र कार्यवाही करने की भी बात कहीं। बैठक में कलेक्टर श्री वसंत ने बताया कि जिले में 1 हजार 811 अविवादित नामांतरण, 95 अविवादित खाता विभाजन और 565 सीमांकन के प्रकरणों का निराकरण किया गया है। इसी प्रकार विवादित राजस्व प्रकरणों का भी निराकरण किया जा रहा है। बैठक में कलेक्टर श्री वसंत ने जिला खनिज संस्थान न्यास से स्वीकृत कार्यो, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की पद संरचना, उचित मूल्य दुकानों में खाद्यान्न का भण्डारण एवं वितरण, खरीफ फसल हेतु किसानों के लिए समितियों में खाद,बीज के भण्डारण एवं वितरण, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गांरटी योजना, गोधन न्याय योजना, राष्ट्रीय आजीविका मिशन, राजीव गांधी न्याय योजनांर्गत धान के स्थान पर वृक्षारोपण के लिए चिन्हाकित किसानों की संख्या, खरीफ वर्ष 2021 में धान के प्रचलित किस्म के स्थान पर धान की विशेष किस्मों एवं अन्य फसलो को बढावा देने हेतु चयनित रकबा एवं किसानो की संख्या, जल जीवन मिशन के अंतर्गत रेट्रोफिटिंग, जल प्रदाय योजना, विद्युत एवं सोलर आधारित, एकल ग्राम योजना और समुह जल प्रदाय योजना आदि योजनाओं की प्रगति के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। जिला पंचायत के अध्यक्ष श्रीमति लेखनी सोनू चंद्राकर, नगर पालिका मुुंगेली के अध्यक्ष श्री संतू लाल सोनकर, सभी जनपद पंचायत और नगर पंचायत के अध्यक्ष, जिले के नवपदस्थ पुलिस अधीक्षक डी. आर आचला, जिला पंचायत के मुख्य कार्य पालन अधिकारी श्री रोहित व्यास, अपर कलेक्टर श्री राजेश नशीने, वनमण्डलाधिकारी श्री रामअवतार दुबे, संयुक्त कलेक्टर श्री तीर्थराज अग्रवाल, एटीआर के श्री सत्यदेव शर्मा सहित विभिन्न विभागों के जिलास्तरीय अधिकारी मौजूद थे।