व्यास जयंती एवं गुरु पूर्णिमा के अवसर पर " गुरु पूर्णिमा के महत्व " विषय पर कार्यक्रम

 

भिलाई। असल बात न्यूज़।

इंदिरा गांधी शासकीय कला एवं वाणिज्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय वैशालीनगर भिलाई में  व्यास जयंती एवं गुरु पूर्णिमा के अवसर पर " गुरु  पूर्णिमा के महत्व " विषय में संस्कृत एवं हिन्दी विभाग द्वारा संयुक्त रूप से कार्यक्रम का आयोजन किया गया l

महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ श्रीमती अलका मेश्राम एवं हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ कैलाश शर्मा के मार्गदर्शन में कार्यक्रम का संचालन संस्कृत विभागाध्यक्ष श्री महेश कुमार अलेन्द्र ने किया l

कार्यक्रम की शुभारंभ बी ए अंतिम की छात्रा कुमारी देवश्री साहू ने मंगलाचरण श्लोक पाठ की l

महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ श्रीमती अलका मेश्राम ने महर्षि वेदव्यास के कृतित्व, वेद, पुराण व गुरुओं में माता  प्रथम  गुरू होती है l गुरु पूर्णिमा न केवल भारत में ही नहीं अपितु  नेपाल, भूटान आदि देशों में भी मनाया जाता है l और  गुरु -शिष्य परम्परा, गुरु के आदर्शों पर  प्रकाश डाला l


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वक्ता डॉ अभिनेष सुराना हिन्दी विभागाध्यक्ष शासकीय वी वाय टी महाविद्यालय दुर्ग ने अपने गुरु को  सादर नमन करते हुए  गुरु - शिष्य संबंध कैसे होने चाहिए ? गुरु  के  बिना ज्ञान  कैसे संभव  ? और गुरु के बिना जीवन कैसा ?  इन पर गहन प्रकाश डाला l और गुरु  हमें अज्ञान से प्रकाश की ओर  ले जाते है, जीवन जीने की कला भी सिखाते हैं l गुरु की महत्ता के  बारे मे कहते हैं- 

गुरु गोविंद दोउ खड़े, काके लागू पाय l

बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियों बताय ll


कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि  जनेद्र  कुमार  दीवान संस्कृत विभागाध्यक्ष शासकीय वी वाय  टी महाविद्यालय  दुर्ग  ने महर्षि वेदव्यास  और  गुरु - शिष्य परम्परा का वर्णन करते हुए  वेद , रामायण, महाभारत, पुराण कालीन प्रसंगों का वर्णन किया l और वशिष्ठ - राम, कृष्ण - सान्दीपनि, परशुराम- कर्ण, चाणक्य - चन्द्रगुप्त आदि गुरु - शिष्य के संबंधों का उदाहरण दिए l

 जो शिष्य गुरु के मार्गदर्शन में चलते हैं वे  कुल, वंश ,देश आदि के नाम रोशन कर जीवन को कृतार्थ करते हैं l


कार्यक्रम के अंत में हिन्दी विभाग की सहायक प्राध्यापक श्रीमती कौशल्या शास्त्री ने मुख्य अतिथियों व समस्त प्राध्यापकों, छात्रों, प्रतिभागियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया l