जून, 2021 में सकल जीएसटी राजस्व के रूप में 92,849 करोड़ रुपये की वसूली

 

जून 2021 के लिए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) राजस्व संग्रह


नई दिल्ली छत्तीसगढ़। असल बात न्यूज।

जून 2021 में सकल वस्तु एवं सेवा कर-जीएसटी राजस्व के रूप में 92,849 करोड़ रुपये की वसूली की गई है। इसमें से सीजीएसटी 16,424 करोड़ रुपयेएसजीएसटी 20,397 करोड़ रुपये और आईजीएसटी 49,079 करोड़ रुपये है।

 प्राप्त जानकारी के अनुसार इसमें (वस्तुओं के आयात पर वसूली गई 25,762 करोड़ रुपये राशि सहित) और उपकर 6,949 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर वसूली गई 809 करोड़ रुपये की राशि सहित) शामिल हैं। उपरोक्त आंकड़े में 5 जून से लेकर 5 जुलाई2021 तक घरेलू लेनदेन के माध्यम से जीएसटी की वसूल की गई राशि शामिल है क्योंकि करदाताओं को कोविड महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर मई-2021 के लिए रिटर्न फाइलिंग में 15 दिनों के लिए देरी से रिटर्न दाखिल करने पर ब्याज में छूट/ब्याज के रूप में विभिन्न राहत उपाय दिए गए थे।

इस महीने के दौरान सरकार ने नियमित निपटान के रूप में आईजीएसटी से 19,286 करोड़ रुपये सीजीएसटी और  16,939  करोड़ रुपये एसजीएसटी का निपटान किया है।

जून 2021 की राजस्व वसूली पिछले साल के इसी महीने में जीएसटी राजस्व वसूली से प्रतिशत अधिक है।

जीएसटी संग्रह लगातार आठ महीने तक 1 लाख करोड़ रुपये से ऊपर रहने के बादजून 2021 में जीएसटी संग्रह 1 लाख करोड़ रुपये से नीचे आ गया है। जून, 2021 में जीएसटी संग्रह मई 2021 के दौरान किए गए व्यावसायिक लेनदेन से संबंधित है।  मई 2021 के दौरानअधिकांश राज्य / केंद्र शासित प्रदेश कोविड के कारण पूर्ण या आंशिक रूप से बंद थे। मई 2021 के महीने के ई-वे बिल डेटा से पता चलता है कि अप्रैल 2021 के महीने में 5.88 करोड़ की तुलना में महीने के दौरान 3.99 करोड़ ई-वे बिल तैयार हुए जो 30% से अधिक कम है।

हालांकिकोविड के मामलों में आ रही कमी और लॉकडाउन में ढील के साथजून 2021 के दौरान तैयार किए गए ई-वे बिल 5.5 करोड़ है जो व्यापार और व्यवसाय की के पटरी पर आने का संकेत है। अप्रैल 2021 के पहले दो हफ्तों में ई-वे बिल तैयार होने का दैनिक औसत 20 लाख थाजो अप्रैल 2021 के अंतिम सप्ताह में घटकर 16 लाख और से 22 मई के बीच दो सप्ताह के दौरान घटकर 12 लाख हो गया। इसके बादई-वे बिल तैयार होने का औसत बढ़ रहा है और 20 जून से शुरू होने वाले सप्ताह में फिर से 20 लाख के स्तर पर पहुंच गया है। इसलिएयह उम्मीद की जा रहै कि जहां जून के महीने के दौरान जीएसटी राजस्व में गिरावट आई हैवहीं जुलाई 2021 से फिर से जीएसटी राजस्व में वृद्धि देखने को मिलेगी।