2 अगस्त से आरंभ होंगे स्कूल, सरकारी स्कूलों के साथ ही निजी स्कूलों में भी चलाई जाएगी सैनिटाइजेशन की मुहिम

 

नागरिक सुविधाओं को बढ़ावा देने के संबंध में नगरीय निकायों को कलेक्टर ने दिये निर्देश

दुर्ग । असल बात न्यूज़।

 तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए मुकम्मल तैयारियों के साथ ही अभी उपलब्ध समय में निर्माण कार्यों एवं अन्य विभागीय गतिविधियों  को पूर्ण करने के लिए तेज गति से काम करें। बच्चों की पढ़ाई को देखते हुए शासन ने एहतियात के साथ एवं प्रोटोकाल का पालन करते हुए 2 अगस्त से स्कूल खोलने का निर्णय लिया है। इसे देखते हुए अपनी तैयारियां पूरी कर लें। यह निर्देश कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि स्कूल खोलने के संबंध में पालक समितियों की स्वीकृति ले लें। 50 प्रतिशत का रोस्टर होना चाहिए। जो स्कूल नहीं आना चाहते, उन्हें बाध्य न करें। इसके साथ ही स्कूल खुलने से पूर्व सभी निजी एवं शासकीय स्कूलों का सैनिटाइजेशन करा लें। इसके साथ ही किसी भी तरह की टूट-फूट हो तो उसकी भी मरम्मत कर लें। बैठक में अपर कलेक्टर सुश्री नूपुर राशि पन्ना, रिसाली नगर निगम आयुक्त श्री प्रकाश सर्वे, अपर कलेक्टर श्री बीबी पंचभाई सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

*आक्सीजन पाइपलाइन, सर्जिकल यूनिट और एंबुलेंस जैसी सुविधाओं की समीक्षा-* कलेक्टर ने तीसरी लहर को देखते हुए टास्क फोर्स की बैठक में दिये गये निर्देशों के पालन की समीक्षा भी की। उन्होंने सभी अस्पतालों में आक्सीजन पाइपलाइन अथवा सिलेंडर की स्थिति, जनरेटर, एंबुलेंस, सर्जिकल यूनिट की तैयारियों के बाबत पूछा। उन्होंने कहा कि एक सप्ताह के भीतर सारी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करा लें।

*शुद्ध पेयजल सबसे महत्वपूर्ण, ई-कोलाई की जाँच के लिए भेजें सैंपल-* कलेक्टर ने कहा कि बरसात के मौके पर मौसमी बीमारियाँ फैलने की आशंका रहती है। इसके लिए जरूरी है कि सभी नगरीय निकाय एवं बड़े गाँवों से सैंपल पीएचई विभाग में जाँच के लिए नियमित रूप से भेजते रहें। उन्होंने कहा कि सैंपल की मात्रा अधिक होनी चाहिए। जिन नगरीय निकायों ने कम सैंपल भेजे हैं, वे सैंपल की संख्या बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि पानी में ई-कोलाई जैसे बैक्टीरिया की पहचान के लिए नियमित रूप से सैंपल भेजना एवं पर्याप्त संख्या में भेजना बेहद जरूरी है। इस सबसे अहम नागरिक सुविधा पर काम की मानिटरिंग नियमित रूप से करें।

*यूरिया की रैक आई, दूर होगी दिक्कत-* कलेक्टर ने खरीफ फसल के संबंध में भी जानकारी ली। अधिकारियों ने बताया कि यूरिया की एक रैक आ गई है, इससे यूरिया की दिक्कत दूर होगी। कलेक्टर ने जलभराव के संबंध में भी जलसंसाधन विभाग के अधिकारी से जानकारी ली। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को खाद-बीज की स्थिति की लगातार मानिटरिंग करने के निर्देश दिये।

*कोविड के दौरान वसूली गई अतिरिक्त फीस वापस कराएं-* कलेक्टर ने कहा कि कोविड के दौरान जिन अस्पतालों द्वारा मरीजों से अतिरिक्त राशि वसूलने की शिकायत सही पाई गई है। ऐसे मामलों में अस्पतालों से अतिरिक्त वसूली गई फीस वापस कराएं और इसकी लगातार मानिटरिंग करते रहें।

*खटाल की गंदगी पर हो सख्ती, सड़क पर आवारा मवेशियों पर करें नियंत्रण-* कलेक्टर ने कहा कि नागरिक सुविधाओं पर निरंतर नजर बनाये रखना एवं इन्हें प्राथमिकता से पूरा करना निगम प्रशासन का पहला दायित्व है। सड़क पर आवारा मवेशियों को नियंत्रित करें। खटाल से होने वाली गंदगी को दूर करने की दिशा में कार्य करें। शहरी क्षेत्रों में भी गौठानों के लिए चारागाहों की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि राजमार्गों के साथ ही अंदरूनी सड़कों को दुरुस्त करना प्राथमिक जिम्मेदारी है। इसे ठीक करने की दिशा में युद्धस्तर पर कार्य करें।