संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले सर्वदलीय बैठक ,सत्र की 19 बैठकों के दौरान 31 सरकारी कार्य होंगे


नई दिल्ली। असल बात न्यूज।

संसद का मानसून सत्र शुरू होने से एक दिन पहले आज यहां सर्वदलीय बैठक का आयोजन किया गया।

 प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने बैठक में कहा कि सांसदों की तरफ से उन्हें यहां बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हुए हैं और दोनों सदनों में सार्थक चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने भरोसा दिलाया कि सुझावों को सामूहिक रूप से लागू करने का प्रयास किया जाएगा।


WhatsApp Image 2021-07-18 at 13.44.38.jpeg

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र की हमारी परम्पराओं के तहतजनता से जुड़े मुद्दों को सौहार्दपूर्ण ढंग से उठाया जाना चाहिए और सरकार को इन चर्चाओं पर प्रतिक्रिया देने का अवसर दिया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक अनुकूल वातावरण तैयार करना सभी की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि जन प्रतिनिधि वास्तव में जमीनी हालात को अच्छी तरह से जानते हैंऔर इसीलिए चर्चाओं में उनकी भागीदारी से फैसले लेने की प्रक्रिया समृद्ध होती है। श्री मोदी ने कहा कि ज्यादातर सांसदों का टीकाकरण हो चुका है और उम्मीद है कि इससे आत्मविश्वास के साथ संसद की गतिविधियों को पूरा करने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री ने संसद में स्वस्थ विचार-विमर्श का आह्वान किया और सभी दलों के नेताओं से सहयोग की मांग की। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि सत्र सुचारू रूप से चलेगा और अपना काम पूरा करेगा। उन्होंने कोविड-19 महामारी के चलते जान गंवाने वालों के लिए अपनी संवेदनाएं व्यक्त कीं।

बैठक में रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंहवाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल और संसदीय कार्य मंत्री श्री प्रह्लाद जोशी ने भाग लिया। इसके अलावा बैठक में राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल और श्री वीमुरलीधरन भी उपस्थित रहे।

 

WhatsApp Image 2021-07-18 at 14.55.19.jpeg

 

बैठक की शुरुआत में श्री जोशी ने कहा कि सरकार नियमों के तहत किसी भी विषय पर चर्चा के लिए तैयार है। सदन के सुचारू संचालन में सभी दलों से पूर्ण सहयोग की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि सदन में सभी मुद्दों पर एक व्यवस्थित चर्चा होनी चाहिए। श्री जोशी ने बताया कि संसद का मानसून सत्र, 2021 सोमवार, 19 जुलाई से शुरू होगा और 13 अगस्त तक जारी रहेगा। सत्र की 19 बैठकों के दौरान, 31 सरकारी विषय (29 विधेयक और वित्तीय विषयों सहितसामने रखे जाएंगे। छह विधेयक अध्यादेशों की जगह लेंगे।

 

मानसून सत्र, 2021 के दौरान पेश किए जाने वाले विधेयकों की सूची

I – विधायी कार्य

  1. अधिकरण सुधार (सेवा का युक्तिकरण और शर्तेंविधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  2. दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता (संशोधनविधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  3. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिए आयोग विधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  4. आवश्यक रक्षा सेवा विधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  5. भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (संशोधनविधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  6. होम्योपैथी केंद्रीय परिषद (संशोधनविधेयक, 2021- अध्यादेश की जगह लेने के लिए।
  7. डीएनए प्रौद्योगिकी (उपयोग और अनुप्रयोगविनियमन विधेयक, 2019
  8. फैक्टरिंग विनियमन (संशोधनविधेयक, 2020
  9. सहायक प्रजनन तकनीक (विनियमनविधेयक, 2020
  10.  अभिभावक और वरिष्ठ नागरिक देखरेख एवं कल्याण (संशोधनविधेयक, 2019
  11.  राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी उद्यमिता और प्रबंधन संस्थान विधेयक, 2019, जैसाकि राज्य सभा द्वारा पारित किया गया।
  12.  नौवहन के लिए समुद्री सहायता विधेयक, 2021, जैसाकि लोकसभा द्वारा पारित किया गया।
  13.  किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षणसंशोधन विधेयक, 2021, जैसाकि लोकसभा द्वारा पारित किया गया।
  14. सरोगेसी (विनियमनविधेयक, 2019
  15.  कोयला क्षेत्र (अधिग्रहण एवं विकाससंशोधन विधेयक, 2021
  16. चार्टर्ड अकाउंटेंट्सकॉस्ट और वर्क्स अकाउंटेंट्स तथा कंपनी सेक्रेटरीज (संशोधनविधेयक2021
  17.  सीमित दायित्व भागीदारी (संशोधनविधेयक, 2021
  18.  कैंटोनमेंट विधेयक, 2021
  19.  भारतीय अंटार्कटिका विधेयक, 2021
  20.  केंद्रीय विश्वविद्यालय (संशोधनविधेयक, 2021
  21.  भारतीय वन प्रबंधन संस्थान विधेयक, 2021
  22. पेंशन कोष विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (संशोधनविधेयक, 2021
  23. जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) विधेयक, 2021
  24.  भारतीय समुद्री मात्स्यिकी विधेयक, 2021
  25.  पेट्रोलियम और खनिज पाइपलाइन (संशोधनविधेयक, 2021
  26.  अंतर्देशीय पोत विधेयक, 2021
  27.  विद्युत (संशोधनविधेयक, 2021
  28.  मानव तस्करी (रोकथामसंरक्षण और पुनर्वासविधेयक, 2021
  29. नारियल विकास बोर्ड (संशोधनविधेयक, 2021

 

II – वित्तीय कार्य

  1. 2020-21 के लिए अनुदानों की अनुपूरक मांगों पर प्रस्तुतिकरणचर्चा और मतदान तथा संबंधित विनियोग विधेयक को पेश करना,विचार करना और पारित करना।
  2. 2017-18 के लिए अनुदानों की अतिरिक्त मांगों पर प्रस्तुतिकरणचर्चा और मतदान व संबंधित विनियोग विधेयक को पेश करना,विचार करना और पारित करना।

 

बैठक में कांग्रेसटीएमसीडीएमकेवाईएसआरसीपीशिव सेनाजद यूबीजदसपाटीआरएसएआईडीएमकेबसपाराकांपाटीडीपीअकाली दलआरजेडीआपसीपीआईसीपीआई (एम), आईयूएमएलएजेएसयूआरएलपीआरएसपीएमडीएमकेतमिल मनीला कांग्रेसकेरल कांग्रेस, जेएमएमएमएनएफआरपीआईएनपीएफ सहित 33 राजनीतिक दलों के नेताओं ने भाग लिया।