प्रदेश में 7 से 16 जुलाई तक मनाया जाएगा वजन त्यौहार

 


पांच वर्ष तक के बच्चों में पोषण स्तर और किशोरियों में हीमोग्लोबिन की होगी जांच


रायपुर, । असल बात न्यूज।

 प्रदेश में 05 वर्ष से कम आयु के बच्चों में पोषण स्तर के आंकलन के लिए 07 जुलाई से 16 जुलाई तक सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन त्यौहार का आयोजन किया जाएगा। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पूर्व वर्षों में आयोजित वजन त्यौहार की भांति इस वर्ष भी आंगनबाड़ी केन्द्रों में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा इलेेक्ट्रॉनिक मशीन से बच्चों का वजन लिया जाएगा।

 वजन त्यौहार में किशोरी बालिकाओं का हीमोग्लोबिन टेस्ट कराने के साथ ही उनका बीएमआई भी ज्ञात किया जाएगा। इसके लिए आंगनवाड़ी केन्द्र में आने वाली 11 से 18 वर्ष की सभी किशोरी बालिकाओं को इस अभियान में शामिल कर स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय से टेस्ट कराया जाएगा। इससे किशोरियों में एनीमिया का स्तर पता कर उसके नियंत्रण में मदद मिलेगी। वजन त्यौहार में जनप्रतिनिधियों और समुदाय की सक्रिय सहभागिता भी ली जाएगी।


उल्लेखनीय है कि वजन त्यौहार से के दौरान एक निर्धारित तिथि में बच्चों का वजन लेकर ऑनलाईन सॉफ्टवेयर में डाटा एंट्री कर पोषण स्तर ज्ञात किया जाता है। प्रत्येक बच्चे की जानकारी सॉफ्टवेयर में दर्ज कर राज्य में कुपोषित बच्चों की स्थिति का डाटाबेस तैयार किया जाता है। इस आधार पर कुपोषण कम करने की कार्ययोजना तैयार की जाती है। किन विशेष स्थानों या वर्गों में कुपोषण ज्यादा है, यह भी स्पष्ट होने से उनके लिए विशेष योजना बनायी जा सकती है। 


कुपोषण के निर्धारण के लिए उसके तीन मापदण्डों अल्प वजन, बौनापन और दुर्बलता का आंकलन किया जाना आवश्यक है। पहले अल्प वजन के आधार पर कुपोषण का आंकलन किया जाता था। वर्तमान में प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन मशीन उपलब्ध है तथा ऊंचाई मापन हेतु हाईट चार्ट भी प्रदाय कर दिया गया है। बौनापन एवं दुर्बलता के मापन हेतु सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में अब साधन उपलब्ध है। जिससे वजन त्यौहार में आयु, वजन के साथ-साथ बच्चों की ऊंचाई की जानकारी लेकर कुपोषण का आकलन किया जाएगा। 


वित्तीय वर्ष 2021-22 में कोविड-19 के सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए वजन त्यौहार का आयोजन किया जायेगा। वजन त्यौहार में कोई बच्चा वजन लेने से छूट जायेगा तो उक्त अवधि में पल्स पोलियो की तर्ज पर घर-घर जाकर बच्चों का वजन लिया जायेगा और पर्यवेक्षक द्वारा इसका पर्यवेक्षण किया जायेगा। 


वजन त्यौहार के अवसर पर किसी घर के बच्चे किसी अन्यत्र रिश्तेदार के यहां गए हो तो ये बच्चे जिस भी गांव में गए हो उस गांव में इन बच्चों का वजन किया जायेगा। प्रत्येक ग्राम पंचायत को और नगरीय क्षेत्रों हेतु वार्ड को वजन उत्सव में सक्रिय भागीदारी के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके लिए सभी गांवों के विभिन्न स्थानों पर बैनर-पोस्टर सहित नारा लेखन कर लोगों को वजन त्यौहार की जानकारी दी जाएगी और उन्हें आंगनबाड़ी में बच्चों को लाकर वजन कराने हेतु प्रेरित किया जाएगा।