हर दिन मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है, तो विधायक देवेंद्र यादव ने प्लाज्मा डोनेट कर कोरोना संक्रमितो की जान बचाने का बीड़ा उठाया

 

भिलाई। असल बात न्यूज़।

कोरोना संकट कितना विकराल हो गया है और ऐसे संकट के समय में दवाइयों, ऑक्सीजन, बेड की कमी के साथ तमाम दिक्कतों से सब को जूझना पड़ रहा है। कोरोना के संक्रमण से मौत के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे कठिन समय में कोरोना से संक्रमित अपने परिजनों, प्रियजनों की जान बचाने के लिए क्या किया जा सकता है ? मानसिक तनाव और तमाम कठिनाइयों के चलते  यह भी नहीं सूझता।इस कठिन समय में कुछ लोग मददगार बन कर भी सामने आ रहे हैं। कोरोना के उपचार के लिए कभी ब्लड तो कभी प्लाज्मा की भी जरूरत पड़ रही है। इन् मददगारो ने इन कमियों को पूरा कर जरूरतमंदों का सहयोग करने का बीड़ा उठाया है। भिलाई में पूर्व महापौर और विधायक देवेंद्र यादव भी कोरोना से संक्रमित लोगों की मदद करने आगे आए हैं। वे संक्रमित लोगों को अपना प्लाज्मा डोनेट कर मदद कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि उनकी इस मदद से कई लोगों की जान बची है।

कोरोना से संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए प्लाज्मा पद्धति पर भी चिकित्सक काम कर रहे हैं। विभिन्न स्थानों पर प्लाज्मा देने से संक्रमित लोगों की जान बचाने में काफी सफलता मिली है।छत्तीसगढ़ में भी इस पद्धति से कोरोना से संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए काम किया जा रहा है।इसमें प्लाज्मा वही डोनेट कर सकता है जिसका पहले तो ब्लड ग्रुप, संक्रमित के ब्लड ग्रुप से मेल खाता हो। दूसरा वह भी पहले कोरोना से संक्रमित हो चुका हो। कोरोना की दूसरी लहर में पूरे छत्तीसगढ़ में हाहाकार मच गया है। Corona से संक्रमित लोगों की प्रतिदिन बड़ी संख्या में मौत हो जाने की खबरें  हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि घातक कोरोना से जिंदगी बचाने में प्लाज्मा पद्धति काफी कारगर साबित हो रही है। पूर्व महापौर और विधायक देवेंद्र यादव कोरोना से संक्रमित रह चुके हैं। अभी वे पूर्णता स्वस्थ हैं । स्वस्थ होने के बाद वे प्लाज्मा डोनेट कर दूसरे संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए मदद कर रहे हैं।

उन्होंने इस अभियान का प्लाज्मा एक्सप्रेस मुहिम नाम दिया है। उनके पास जानकारी आने पर वे प्लाज्मा डोनेट करते हैं। वे दूसरे लोगों को भी Corona से संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए plasma डोनेट करने की अपील कर रहे हैं।इस मुहिम के तहत उन्होंने आज बालाजी ब्लड बैंक पहुंचकर स्वयं प्लाज्मा डोनेट किया।इस बारे में पहले विशेषज्ञ चिकित्सकों से राय ली जाती है तब plasma donate किया जाता है। विधायक श्री यादव ने भी विशेषज्ञ चिकित्सकों की राय के अनुसार प्लाज्मा डोनेट किया। वे कहते हैं उन्हें खुशी है कि वे इस तरह से परेशान लोगों की मदद करने में सहयोग कर पा रहे हैं। अभी सफल होने के चलते प्लाजमा थेरेपी की मांग बढ़ी है। प्लाज्मा एक्सप्रेस मुहिम में लोगों का सहयोग मिलने से हम अधिक से अधिक लोगों की जान बचाने में सफल हो सकेंगे। विधायक देवेंद्र यादव अपनी इस मुहिम से अधिक से अधिक युवाओं को जोड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं।

18 से 60 वर्ष की आयु का कोई भी व्यक्ति प्लाज्मा डोनेट कर सकता है जो कि कोरोना से संक्रमित रहा हो और ठीक हो चुका हो।प्लाज्मा एक्सप्रेस मुहिम से अभी तक सैकड़ों की संख्या में युवा जुड़ चुके हैं।ऐसे में दूर-दूर आने वाले मरीजों की भी परेशानियां दूर हो रही हैं। मरीज के परिजनों को प्लाज्मा ढूंढने के लिए दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता। एक महत्वपूर्ण बात यह है कि प्लाज्मा एक्सप्रेस इच्छुक डोनर को लेने के लिए उसके घर तक जाती है और जरूरतमंद को प्लाज्मा डोनेट करने के बाद उसे सकुशल घर पहुंचाया जाता है।

विधायक श्री यादव के पहल के बाद छत्तीसगढ़ में एक नई शुरुआत होती दिख रही है। ऊर्जावान युवा कोरोना से संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए plasma donate करने बढ़ चढ़कर आगे रहे हैं और प्लाज्मा डोनेट कर  लोगों की जाने में जा जा चुकी है। विधायक श्री यादव युवाओं से plasma donate करने की अपील करते हुए यह भी कहते हैं कि वर्तमान में देश में पैदा भयावह संकट की स्थिति के संबंध में हम, लोगों की मदद करने के लिए जो कुछ कर सकते हैं उसे करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्लाज्मा डोनेट करने के पूर्व दोनों को इस बारे में  स्वास्थ्य विशेषज्ञ से भी सलाह जानकारी ले लेना चाहिए।