त्रिपुरा का कटहल लंदन निर्यात

 


नई दिल्ली, छत्तीसगढ़। असल बात न्यूज।
देश के त्रिपुरा  का कटहल लंदन में काफी पसंद किया जा रहा है और वहां अभी 1.2 metric  टन ताजा कटहल निर्यात किया गया है।उत्तर-पूर्वी क्षेत्र से कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों की निर्यात क्षमता को बढ़ाने की दिशा में बड़ी पहल करते हुए, आज 1.2 मीट्रिक टन (एमटी) ताजा कटहल  त्रिपुरा से लंदन रवाना की गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार निर्यात किया गया  कटहल, त्रिपुरा स्थित कृषि संयोगा एग्रो प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड से खरीदा गया था। खेप को एपीडा सहायता प्राप्त सॉल्ट रेंज सप्लाई चेन सॉल्यूशन लिमिटेड की पैक-हाउस सुविधा में पैक किया गया और काइगा एक्जिम प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्यात किया गया।

यह यूरोपीय संघ को निर्यात के लिए पहला एपीडा सहायता प्राप्त पैक हाउस था। जिसे मई 2021 में अनुमोदित किया गया था। एपीडा नियमित रूप से उत्तर-पूर्वी राज्यों को भारत के निर्यात मानचित्र पर लाने के लिए निर्यात को बढ़ावा देने की गतिविधियों को अंजाम देता है।


हाल ही में“लाल चावल” की पहली खेप असम से अमेरिका भेजी गई थी। आयरन से भरपूर “लाल चावल”असम की ब्रह्मपुत्र घाटी में बिना किसी रासायनिक उर्वरक के पैदा किए जाते हैं। इस चावल की किस्म को 'बाओ-धान' कहा जाता है, जो असमिया भोजन का एक अभिन्न अंग है।

एपीडा खाद्य उत्पादों के निर्यात, मार्केटिंग रणनीतियों को विकसित करने, मार्केटिंग इंटेलिजेंस, अंतर्राष्ट्रीय अवसर, कौशल विकास, क्षमता निर्माण और उच्च गुणवत्ता वाली पैकेजिंग के लिए कदम उठाता है।

उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के उत्पादों को बढ़ावा देना एपीडा का मुख्य कार्य क्षेत्र है। एपीडा, क्षमता निर्माण, गुणवत्ता उन्नयन, बुनियादी ढांचे के विकास के मामले में उत्तर पूर्वी क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखेगा। खरीदारों को किसानों से जोड़ने और कृषि उपज की पूरी आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने से उत्तर-पूर्वी क्षेत्र को अतिरिक्त फायदा मिलेगा।