श्रमिकों को न्याय दिलाने विधायक देवेंद्र यादव आगे आए, श्रम आयुक्त दुर्ग से की बातचीत, श्रमिकों को न्याय दिलाने को कहा

 ""श्रमायुक्त ने कहा जाँच समिति बनाकर पूरे मामले की जानकारी लेकर करेंगें कार्यवाही"

भिलाई। असल बात न्यूज।

काम से निकाले जाने तथा कंपनी प्रबंधन की ज्यादातियो से पीड़ित श्नमिको ने भिलाई के विधायक देवेंद्र यादव से मुलाकात कर उन्हें अपनी समस्याएं बताइ हैं जिसके बाद विधायक श्री यादव श्रमिकों की समस्याओं के निराकरण के लिए आगे आ गए हैं। उन्होंने अपने आवास पर श्रम आयुक्त से बातचीत की और उन्हें श्रमिकों की समस्याओं से अवगत कराया। जानकारी के अनुसार इस पर श्रम आयुक्त ने जाँच समिति बनाकर पूरे मामले की जानकारी लेकर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। 

BEC के श्रमिकों ने जबरन काम से निकाले जाने तथा प्रबंधन के द्वारा लगातार अत्याचार करने की शिकायत विधायक से की थी जिसके बाद विधायक श्री यादव ने   श्रमायुक्त दुर्ग आर.के. प्रधान से अपने निवास पर श्रमिकों से मुलाकात की। इस दौरान  श्रमिकों का प्रतिनिधि मंडल भी वहां उपस्थित था। प्रतिनिधि मंडल के द्वारा 200 से अधिक लिखित शिकायतों को देकर अपनी बात श्रमायुक्त के समक्ष अपनी बातें रखी।

 श्रमिकों ने बताया कि  BEC इंजीनियरिंग प्रबंधन श्रमिकों पर अत्याचार कर रहा है एवं मनमानी कर  काम पर नहीं आने दे रहा  है। अप्रैल और मई के महीने में श्रमिकों को 4 दिन और 6 दिन का भुगतान कंपनी स्लिप के माध्यम से किया गया है स्लिप की छायाप्रति भी श्रमिकों के द्वारा सौंपा गया है। 

प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि ऐसे कई श्रमिक जिनका कि नौकरी अभी 10 वर्ष या उससे भी अधिक बचा हुआ है ऐसे लोगों को भी प्रबंधन बुलाकर जबरजस्ती इस्तीफा देने हेतु मजबूर कर रहा है। ऐसे भी कई श्रमिक है जिनको कंपनी ने जबरन निकाल तो दिया है परंतु उनका वेतन और ग्रेज्युटी का भुगतान अभी तक नहीं किया है। कैंटीन बंद कर वहाँ के कर्मचारियों को भी बेरोजगार कर दिया गया है। ड्रेस,जूते तथा बोनस 3 साल से बकाया है लगातार प्रबंधन अत्याचार कर रहा है|

इस मामले में भिलाई विधायक देवेंद्र यादव ने श्रमायुक्त प्रधान को न्यायसंगत कार्यवाही करने कहा तथा जल्द ही वेतन राशि दिलवाने हेतु प्रबंधन से बात करने कहा और गलत तरीके से दबाव डाल कर त्यागपत्र माँगे जाने के विषय में गंभीरता से जाँच करने के निर्देश भी दिए|

इस पूरे विषय पर श्रमायुक्त प्रधान ने कहा कि जमीनी स्तर पर कमेटी का गठन कर जाँच की जाएगी फैक्ट्री जाकर वहाँ श्रमिकों से पूछताछ भी किया जाएगा एवं किसी भी हाल में मजदूरों को काम से नहीं निकाला जाएगा। अप्रैल और मई के संबंध में कार्यरत श्रमिकों की सूची मंगवाकर जाँच की जाएगी किससे कितने दिन काम करवाया गया कितना काम लिया जा रहा है।

जाँच में दोषी पाये जाने पर प्रबंधन पर कार्यवाही करने की बात भी श्रमायुक्त प्रधान ने मजदूरों के समक्ष कहा है|

प्रतिनिधि मंडल की बैठक में रामाराव ,आदित्य सिंह, शंकर राव, मोहन राव, बबलू मांझी, टी. जी. नायडू, शिवराज, रमेश दलाई, विजय, बी.मोहन राव,सुदर्शन राव, वेंकट राव,अनिल शर्मा,वल्लभ राव ,पुरेन्दर और भी सदस्य गण मौजूद थे|