म्यूकोर्मिकोसिस, ब्लैक फंगस पर महत्वपूर्ण जानकारियां, बचाव के लिए कोविड के मरीजों को स्टेरॉयड लेने से बचने और मधुमेह के रोगियों को अपने रक्त शर्करा के स्तर को हमेशा नियंत्रण मेे रखना चाहिए

 

कोरोना वायरस के संक्रमण ने कई तरह की बीमारियों को जन्म दिया है अथवा बढ़ाया है। कोरोना वायरस ने मनुष्य को कई तरीके से नुकसान पहुंचाया है। जिसके चलते आज पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। कोरोना के संक्रमण के चलते   म्यूकोर्मिकोसिस,   जोकि  ब्लैक फंगस के नाम से अधिक प्रचारित हुई है के फैलने का काफी अधिक खतरा बढ़ गया है। चिकित्सकों का कहना है कि यह बीमारी नई नहीं है, इस तरह के संक्रमण महामारी से पहले भी सामने आए थे। हालांकि इसका प्रसार बहुत कम था। एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया है कि म्यूकोर्मिकोसिस आमतौर पर मधुमेह मेलिटस से पीड़ित लोगों में पाया जाता था।लेकिन अब कोविड-19 और इसके इलाज के कारण इसके मामलों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। एम्स में ही फंगल संक्रमण के 20 से अधिक मामले हैंजिनमें से सभी कोविड पॉजिटिव हैं।हल्के संक्रमण वाले कोविड पॉजिटिव रोगियों को बिल्कुल सख्ती के साथ स्टेरॉयड लेने से बचना चाहिए। मधुमेह के रोगियों को हमेशा अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी और उसे नियंत्रण रखना चाहिए।मधुमेह के रोगी (अनियंत्रित मधुमेह) + स्टेरॉयड का उपयोग + कोविड पॉजिटिव - तीनों एक साथ मिलकर किसी रोगी को इस संक्रमण के बेहद अधिक जोखिम वाली स्थिति में डाल देते हैं।

नई दिल्ली, छत्तीसगढ़। असल बात न्यूज।


म्यूकोर्मिकोसिसजिसे ब्लैक फंगस संक्रमण के रूप में भी जाना जाता हैकोई नई बीमारी नहीं है। इस तरह के संक्रमण महामारी से पहले भी सामने आए थे। हालांकि इसका प्रसार बहुत कम था। लेकिन अबकोविड -19 के कारणयह दुर्लभ लेकिन घातक कवकीय (फंगल) संक्रमण के मामले बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं। कोरोनावायरस एसोसिएटेड म्यूकोर्मिकोसिस (सीएएमरोग उन रोगियों में पाया जा रहा है जो या तो ठीक हो रहे हैं या कोविड -19 से उबर चुके हैं। आइए यह जानने के लिए हम इस विषय पर अपनी पिछली पोस्ट से आगे बढ़ेंकि हम अपनी और अपने प्रियजनों की रक्षा के लिए और क्या कर सकते हैं।

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने एक चर्चा के दौरान इस संक्रमण के बढ़े हुए मामलों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि "पहलेम्यूकोर्मिकोसिस आमतौर पर मधुमेह मेलिटस से पीड़ित लोगों में पाया जाता था। यह एक ऐसी स्थिति है जहां किसी के रक्त शर्करा (ग्लूकोज) का स्तर असामान्य रूप से बहुत अधिक होता है। कीमोथेरेपी के दौर से गुजरने वाले कैंसर के मरीजजिनका प्रत्यारोपण हुआ हैऔर इम्यूनोसप्रेसेन्ट (प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने वाली दवाएं) लेने वाले लोगों में भी यह संक्रमण पाया जाता है। लेकिन अब कोविड-19 और इसके इलाज के कारण इसके मामलों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। एम्स में ही फंगल संक्रमण के 20 से अधिक मामले हैंजिनमें से सभी कोविड पॉजिटिव हैं। कई राज्यों में 400 से 500 मामले दर्ज किए गए हैंवो सभी कोविडरोगियों

 विड – 19 से उबरने के दौरान या उसके बाद यह संक्रमण रोगियों को क्यों और कैसे प्रभावित करता है?

कोविड – 19 के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं शरीर मेंलिम्फोसाइटों की संख्या को कम करती हैं। ये लिम्फोसाइट्स तीन प्रकार की श्वेत रक्त कोशिकाओं में से एक होती हैं, जिनका काम बैक्टीरियावायरस और परजीवी जैसे रोग पैदा करने वाले विभिन्न रोगजनकों (पैथोजन) से हमारे शरीर की रक्षा करना है। लिम्फोसाइटों की संख्या में कमी आने से रोगी के सामने लिम्फोपेनिया नामक की एक चिकित्सीय स्थिति पैदा होती हैजिससे कोविड – 19 के रोगियों में इस अवसरवादी फंगल संक्रमण को फैलने का रास्ता मिल जाता है।

जिन मरीजों की रोग - प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं करती हैउनमें म्यूकोर्मिकोसिस होने की संभावना अधिक होती है।और चूंकि कोविड – 19 का इलाज प्रतिरक्षा प्रणाली के कामकाज को दबाने के लिए जाना जाता हैइसलिए रोगियों को ब्लैक फंगस के संक्रमण से ग्रसित होने  के जोखिम अधिक होता है।


रोग और लक्षण:

मानव शरीर के अंग विशेष पर हमले के आधार पर म्यूकोर्मिकोसिस को वर्गीकृत किया जा सकता है। इसके संक्रमण से प्रभावित होने वाले शरीर के विभिन्न हिस्सों के अनुरूप संक्रमण के  संकेत और लक्षण भी अलग-अलग होते हैं।

  • राइनो ऑर्बिटल सेरेब्रल म्यूकोर्मिकोसिस : यह संक्रमण तब होता है जब कवक बीजाणुओं को सांस के जरिए शरीर के भीतर लिया जाता है। यह नाकआंख/आंख के सॉकेट की कक्षामौखिक गुहा को संक्रमित करता है और यहां तक ​​कि मस्तिष्क तक भी फैल सकता है। इसके लक्षणों में सिरदर्दनाक बंद होनानाक से पानी निकलना (हरा रंग)साइनस में दर्दनाक से खून बहनाचेहरे पर सूजनचेहरे पर उद्दीपन में कमी और त्वचा के रंग में कमी आना शामिल है।
  • पल्मोनरी म्यूकोर्मिकोसिस : जब बीजाणु सांस अंदर खींचते हैं और श्वसन तंत्र तक पहुंचते हैंतो वे फेफड़ों को प्रभावित करते हैं। इस संक्रमण के लक्षण बुखारसीने में दर्दखांसी और खून की खांसी आदिहैं।

यह फंगस जठरांत्र संबंधी मार्गत्वचा और अन्य अंगों को भी संक्रमित कर सकता है। लेकिन इसका सबसे आम रूप राइनो सेरेब्रल म्यूकोर्मिकोसिस है।

कोविड -19 के रोगियों द्वारा उठाए जाने वाले निवारक उपाय:

निम्नलिखित चिकित्सीय स्थितियों वाले लोगों को बेहद सावधान रहना चाहिएउन्हें लगातार अपने स्वास्थ्य की निगरानी करनी चाहिए और निम्नलिखित निवारक उपाय भी करने चाहिए।

मधुमेह के रोगी (अनियंत्रित मधुमेह) + स्टेरॉयड का उपयोग + कोविड पॉजिटिव - तीनों एक साथ मिलकर किसी रोगी को इस संक्रमण के बेहद अधिक जोखिम वाली स्थिति में डाल देते हैं। इसलिए मधुमेह के रोगियों को हमेशा अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी और उसे नियंत्रण रखना चाहिए।

स्टेरॉयड का दुरुपयोग भी चिंता का एक विषय है जो सीधे किसी रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है।

हल्के संक्रमण वाले कोविड पॉजिटिव रोगियों को बिल्कुल सख्ती के साथ स्टेरॉयड लेने से बचना चाहिए। एक ओरहल्के संक्रमण वाले कोविड के मामलों के उपचार में स्टेरॉयड का कोई काम नहीं हैं। दूसरी ओरस्टेरॉयड लेने से म्यूकोर्मिकोसिस जैसे द्वितीयक स्तर के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इससे कोविड – 19 से ठीक होने के बाद भी फंगल संक्रमण का जोखिम बहुत अधिक होता है। इसलिए यदि किसी कोविड-संक्रमित व्यक्ति का ऑक्सीजन संतृप्ति स्तर सामान्य हैऔर उसे चिकित्सकीय रूप से हल्के के रूप में वर्गीकृत किया गया हैतो उसे स्टेरॉयड लेने से पूरी तरह से बचना चाहिए।



जो लोग स्टेरॉयड का सेवन कर रहे हैं, उन्हें भी अपने ब्लड शुगर के स्तर की जांच कराते रहना चाहिए। ज्यादातर मामलों मेंजिन व्यक्तियों को मधुमेह नहीं हैवो पाते हैं कि स्टेरॉयड लेने के बादउनके ब्लड शुगर का स्तर 300 से 400 तक बढ़ जाता है। इसलिएअपने ब्लड शुगर के स्तर की लगातार निगरानी करना जरूरी है।

प्रो. गुलेरिया ने कहा कि कोविड ​​​​-19 के मरीजों द्वारा ली जा रही स्टेरॉयड की अधिक खुराक किसी काम की नहीं है। हल्की से मध्यम खुराक काफी अच्छी होती है। आंकड़ों के मुताबिक स्टेरॉयड सिर्फ 5 से 10 दिन (अधिकतम) तक ही देना चाहिए। इसके अलावास्टेरॉयड ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा देते हैं, जिसे नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है। उन्होंने ने कहा कि यह बदले में फंगल संक्रमण की संभावना को बढ़ा सकता है।”

मास्क पहनना अनिवार्य है। हवा में पाए जाने वाले फंगल बीजाणु आसानी से नाक के जरिए शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। यह तथ्य संक्रमण को रोकने मेंमास्क पहनने की आदत को दोगुना महत्वपूर्ण बनाता है। जो लोग निर्माण स्थलों पर काम करते हैं या वहां जाते हैंउन्हें इस बारे में विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए।

ये कवक कहां पाए जाते हैं?

म्यूकोर्मिकोसिस नाम का संक्रमण म्यूकॉर्माइसेट्स नाम के फफूंद के एक समूह के कारण होता है। यह प्राकृतिक रूप से हवापानी और यहां तक ​​कि भोजन में भी पाया जाता है। यह हवा से फंगल बीजाणुओं के जरिए शरीर में प्रवेश करता है या कटनेजलने या त्वचा पर चोट लगने के बाद यह त्वचा पर भी हो सकता है।

 

 

इस संक्रमण का जल्द पता लगाने से भविष्य में देखने की क्षमता में होने वाली संभावित हानि या मस्तिष्क के संक्रमण को रोका जा सकता है।

पालन किये जाने वाले अन्य निवारक उपाय:

 

  1. (ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर का उपयोग करने वालों के लिए) ह्यूमिडिफायर की सफाई और उनमें बदलाव
  2. जीवाणु रहित सामान्य सेलाइन को ह्यूमिडिफायर बोतल में इस्तेमाल किया जाना चाहिए और इसे रोजाना बदलना चाहिए
  3.  मास्क को प्रतिदिन कीटाणुरहित करना चाहिए

 

मामूली लक्षण के प्रति भी लापरवाही न बरतें:

आंखों और नाक के आसपास दर्द और लालीबुखार (आमतौर पर हल्का)एपिस्टेक्सिस (नाक से खून बहना)नाक या साइनस में अवरोधसिरदर्दखांसीसांस की तकलीफखून की उल्टीमानसिक स्थिति में बदलाव और देखने की क्षमता में आंशिक नुकसान।

डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की जिम्मेदारियां

कोविड - 19के मरीजों को छुट्टी देते समय उन्हें म्यूकोर्मिकोसिस के शुरुआती लक्षणों या संकेतों केजैसे कि चेहरे का दर्दअवरोधअत्यधिक डिस्चार्जदांतों का ढीला होनासीने में दर्द और सांस की कमी बारे में जानकारी देने की जरूरत है।