अमलेश्वर सहित 17 गाँवों में शुद्ध पेयजल की समूह नलजल योजना पर काम होगा आरंभ

 

-जलजीवन मिशन के संचालक  एस. प्रकाश ने  इंटकवेल की जगह का स्थल निरीक्षण किया, डीपीआर फाइनल, शीघ्र आरंभ होगा कार्य 

-चंदखुरी, निकुम और फुंडा में भी देखा मिशन का काम

दुर्ग । असल बात न्यूज़।

 अमलेश्वर और निकटवर्ती 17 गाँवों को शीघ्र ही समूह नलजल योजना से शुद्ध जल मिलेगा। इसके लिए इंटकवेल आदि के लिए साइट फाइनल कर ली गई है।  साइट का अवलोकन करने जलजीवन मिशन के संचालक  एस. प्रकाश आज यहां पहुँचे। उन्होंने साइट देखी और सरपंच तथा जनप्रतिनिधियों से चर्चा की। श्री प्रकाश ने कहा कि शीघ्र ही आपके गाँव में इंटकवेल और पाइपलाइन आदि बिछाने का कार्य शुरू हो जाएगा। इसके माध्यम से नदी का पानी पूरी तरह शुद्ध कर आपके घरों तक पहुँचाया जाएगा।

 यह कार्य जलजीवन मिशन के माध्यम से होना है। मिशन का उद्देश्य शुद्ध पानी के साथ ही जरूरत के मुताबिक पर्याप्त पानी उपलब्ध कराना है। मौके पर मौजूद सरपंच ने कहा कि हम ग्रामीण इस कार्य में पूरा सहयोग देंगे। पीने का साफ पानी हर घर उपलब्ध होने से लोगों को जीवन बहुत आसान हो जाएगा। ग्रामीण इस योजना को लेकर बहुत उत्साहित हैं और ग्रामीणों की ओर से पूरा सहयोग किया जाएगा। श्री प्रकाश ग्राम फुंडा भी पहुँचे। यहाँ जलजीवन मिशन के अंतर्गत रेट्रोफिटिंग का कार्य हो रहा है। जलजीवन मिशन के अंतर्गत रेट्रोफिटिंग में ऐसे कार्य शामिल हैं जिनके माध्यम से पहले से कार्य कर रही नलजल योजनाओं को विस्तारित करना होता है। उदाहरण के लिए कोई ऐसा गाँव है जहाँ पहले से शुद्ध पेयजल के लिए कोई समूह नलजल योजना कार्य कर रही है लेकिन यहाँ परिवारों की संख्या बढ़ गई और उसके मुताबिक शुद्ध पेयजल की जरूरत पड़ी तो इसके लिए पाइपलाइन विस्तार का कार्य किया जाता है।

 श्री प्रकाश ने निकुम और चंदखुरी में भी जलजीवन मिशन के अंतर्गत हो रहे कार्यों को देखा। साथ ही इन गाँवों के जनप्रतिनिधियों से भी चर्चा की। इस दौरान पीएचई विभाग के प्रमुख अभियंता श्री टीजी कोसरिया, चीफ इंजीनियर  एके साहू, अधीक्षण अभियंता  राजेंद्र शुक्ला, कार्यपालन अभियंता  समीर शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

पाँच जिलों के अभियंताओं की बैठक*-  जलजीवन मिशन के संचालक ने राजनांदगांव जिले में भी योजना के क्रियान्वयन की बारीकी पर नजर डाली। शाम को उन्होंने पाँचों जिलों में कार्यरत अभियंताओं की बैठक ली। इसमें उन्होंने जलजीवन योजना की प्रगति की समीक्षा की। बैठक में साइट सलेक्शन, हितग्राहियों के चिन्हांकन, डीपीआर की स्थिति एवं अन्य तकनीकी बिन्दुओं पर चर्चा हुई। बैठक में श्री प्रकाश ने अधिकारियों को तय समयावधि में गुणवत्तापूर्वक कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शुद्ध पेयजल सर्वाधिक प्राथमिकता का विषय है इस पर तेजी से और गुणवत्तापूर्वक कार्य होता रहे, इसकी निरंतर मानिटरिंग करें।