गरीब और जरूरतमंदों के लिए राहत का पिटारा,लगभग 80 करोड़ लाभार्थियों को प्रति महीने प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम खाद्यान्न मुफ्त

 

पीएमजीकेएवाई योजना 2021 के तहत 80 करोड़ से ज्यादा एनएफएसए लाभार्थियों को अतिरिक्त 80 एलएमटी खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा

​​​​​​​प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गरीबों के हितों के प्रति प्रतिबद्धता के क्रम में और कोविड-19 हालात के मद्देनजर गरीब और जरूरतमंदों के सामने मौजूद मुश्किलों को दूर करने के लिए, भारत सरकार ने मई और जून, 2021 महीने के लिए पीएमजीकेएवाई योजना की घोषणा की है

एनएफएसए और पीएमजीकेएवाई योजना के लिए मई और जून, 2021 में राज्यों/ यूटी को लगभग 179 एलएमटी खाद्यान्न की आपूर्ति की जाएगी: श्री पांडे

भारत सरकार का भारतीय खाद्य निगम इसके लिए तैयार है और उसके खाद्यान्न का पर्याप्त भंडार उपलब्ध है: सचिव, डीएफपीडी

नई दिल्ली, छत्तीसगढ़। असल बात न्यूज़।
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 (एनएफएसए) के दायरे में आने वाले लगभग 80 करोड़ लाभार्थियों को प्रति महीने प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम खाद्यान्न मुफ्त आवंटित किया जाएगा।

प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की गरीबों के लिए प्रतिबद्धता के क्रम में और कोविड-19 हालात के मद्देनजर गरीब और जरूरतमंदों के सामने मौजूद मुश्किलों को दूर करने के लिए, भारत सरकार ने मई और जून, 2021 महीने के लिए पीएमजीकेएवाई योजना की घोषणा की है। खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग में सचिव श्री सुधांशु पांडे ने आज मीडिया से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्य योजना की घोषणा की।

इस योजना के अंतर्गत, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 (एनएफएसए) के दायरे में आने वाले लगभग 80 करोड़ लाभार्थियों को प्रति महीने प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम खाद्यान्न मुफ्त आवंटन करने का फैसला किया है। यह आवंटन पूर्व में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएम-जीकेएवाई) के समान व्यवस्था की तर्ज पर अगले दो महीनों, मई और जून, 2021 के लिए एनएफएसए खाद्यान्न का आवंटन किया जाएगा।

 

अपनी शुरुआती टिप्पणी में, श्री पांडे ने बताया कि भारतीय खाद्य निगम मई और जून, 2021 महीनों के लिए संबंधित राज्य/ यूटी सरकारों को उनके नियमित एनएफएसए आवंटन के अलावा अतिरिक्त 80 एलएमटी खाद्यान्न उपलब्ध कराएगा।

श्री पांडे ने कहा कि एनएफएसए और इस योजना के लिए मई और जून, 2021 में लगभग 179 एलएमटी खाद्यान्न की आपूर्ति की जाएगी, जिसके लिए एफसीआई पूरी तरह तैयार है और राज्यों/ यूटी में खाद्यान्नों का पर्याप्त भंडार उपलब्ध है।

साथ ही, उन्होंने कहा कि खरीफ विपणन सत्र, 2020-21 में हुई खाद्यान्नों की खरीद और रबी विपणन सत्र 2021-22 में जारी खरीद के भंडार की प्रस्तावित आवाजाही में इस अवधि के दौरान किसी भी तरह की आवश्यकता का ध्यान रखा जाएगा।

इस योजना के अंतर्गत, एनएफएसए के तहत आने वाली दोनों श्रेणियों अंत्योदय अन्न योजना (एएवाई) और प्राथमिक परिवारों (पीएचएच) में शामिल लगभग 80 करोड़ लाभार्थियों को एनएफएसए के तहत उनकी नियमित पात्रता से इतर प्रति महीना प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम मुफ्त खाद्यान्न (चावल/ गेहूं) का अतिरिक्त कोटा उपलब्ध कराया जाएगा।

सचिव ने बताया कि 2020-21 के दौरान, भारत सरकार ने पीएमजीकेएवाई-1 (अप्रैल-जून, 2020) और पीएमजीकेएवाई-2 (जुलाई-नवंबर, 2020) की घोषणा की थी, जिसके तहत एफसीआई द्वारा संबंधित राज्य/ यूटी सरकारों को 104 एलएमटी गेहूं और 201 एलएमटी चावल यानी कुल 305 एलएमटी खाद्यान्नों की सफलतापूर्वक आपूर्ति की गई थी।