कोरोना संक्रमण ने लील ली 370 शिक्षकों की जान, छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन ने सवाल उठाया इसके लिए जिम्मेदार कौन ? -

 


भिलाई, दुर्ग। असल बात न्यूज।

प्रदेश में अब तक विभिन्न विभागों में से शिक्षा विभाग में 370 शिक्षकों की कोरोना के संक्रमण की चपेट में आकर मौत हो गई है। यह जानकारी देते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन के प्रांताध्यक्ष राजेश चटर्जी,उप प्रांताध्यक्ष चंद्रशेखर चन्द्राकर, विष्णुसिंह राजपूत,महामंत्री सतीश ब्यौहरे,राकेश साहू एवं संगठन मंत्री कुबेर राम देशमुख ने कहा है कि  कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोई सुरक्षात्मक उपाय किये बिना ही,जिला प्रशासन के द्वारा,शिक्षकों की ,कोरोना महामारी के रोकथाम एवं नियंत्रण के काम में मनमानी ड्यूटी लगाई जा रही है। 

 शिक्षक कांग्रेस के उक्त नेताओं ने जानकारी देते हुए बताया  है कि छत्तीसगढ़ सामान्य प्रशासन विभाग के  आँकड़ो के अनुसार कोरोना संक्रमण के कारण, छत्तीसगढ़ के 54 विभागों में से अब तक कोरोना के संक्रमण से कुल  689 मौत हुई  है। जिसमें से अकेले शिक्षा विभाग में अब तक 370 शिक्षकों  ने जान गँवाई है। शिक्षकों के मौत का सिलसिला जारी है।लेकिन शिक्षकों की डयूटी,कोरोना महामारी के रोकथाम में लगाना बदस्तूर जारी है। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोई सुरक्षात्मक उपाय किये बिना ही,जिला प्रशासन,शिक्षकों की मनमाने डयूटी,कोरोना महामारी के रोकथाम एवं नियंत्रण में लगा रहा है। विभाग के जिला एवं ब्लॉक के अधिकारी कोरोना संबंधित डयूटी से इंकार करने वाले शिक्षकों को,वेतन रोकने की धमकी दे रहे हैं। शिक्षकों की जान जा रही है,उनका परिवार बेसहारा हो रहा है और विभाग के उच्च अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं। कोरोना संक्रमित हो रहे शिक्षकों के त्वरित इलाज का कोई प्रबंध विभाग नहीं कर रहा है। संक्रमित शिक्षक त्वरित इलाज के अभाव में दम तोड़ रहे हैं। विभाग रोज नए फरमान जारी कर रहा है। जिससे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि,विभाग को अपने शिक्षकों की जान की परवाह नहीं है।

       फेडरेशन ने 26 अप्रैल 2021 के स्थिति में,राज्य के 29 जिलों के अंतर्गत हुए शिक्षकों के मौत के आँकडों का जानकारी दिया है।जोकि बेहद चौंकाने वाला है। आँकड़ो के अनुसार *रायपुर संभाग* अंतर्गत जिला रायपुर में 49,बलौदाबाजार में 28, धमतरी में 15,महासमुंद 25 एवं गरियाबंद में 09 *कुल 126* शिक्षकों का परिवार बेसहारा हुआ है। *दुर्ग संभाग* अंतर्गत जिला दुर्ग 41,राजनांदगांव 46, कवर्धा 5,बेमेतरा 10 तथा बालोद से 13 *कुल 115* शिक्षकों को कोरोना ने लील लिया है। *बिलासपुर संभाग* अंतर्गत बिलासपुर 14,कोरबा 02 ,सक्ति 07, मुंगेली 03, जी पी एम 04 , जांजगीर 12,रायगढ़ से 23 *कुल 65* शिक्षक परिवार बेसहारा हुए है। *बस्तर संभाग* अंतर्गत बस्तर 02 ,दंतेवाड़ा 00,सुकुमा 21,बीजापुर 03,नारायणपुर 00 , कोंडागाँव 04 ,काँकेर से 04 *कुल 34* शिक्षकों के घर में अंधेरा छा गया है। *सरगुजा संभाग* अंतर्गत जिला अम्बिकापुर 05, सूरजपुर 02, बलरामपुर 06 ,कोरिया 03 ,जशपुर से 14 *कुल 30* शिक्षक कोरोना कार्य जैसे ग़ैर-शिक्षाकीय कार्य में शहीद हुए हैं। फेडरेशन के कहना है कि समाज को राह दिखाने वाला शिक्षक,खुद अंधेरे में खो गया है ! आखिर 370 शिक्षकों को मौत के मुँह में धकेलने का दोषी कौन है ?

 फेडरेशन का कहना है कि शिक्षा विभाग में तृतीय श्रेणी के पदों में सहायक शिक्षक के 7144 पद एवं सहायक शिक्षक विज्ञान के 4035 पद कुल 11179 पद रिक्त हैं। फेडरेशन ने राज्य सरकार से दिवंगत शिक्षक के परिवार के एक सदस्य को तत्काल अनुकंपा नियुक्ति देने के माँग पर जोर दिया है। फेडरेशन ने राज्य शासन को सुझाव दिया है कि,कोरोना महामारी के दृष्टिगत,दिवंगत शिक्षकों के परिवार के एक सदस्य  को सांत्वना स्वरूप अनुकंपा नियुक्ति देने,पात्रता एवं शर्तों को *एक बारीय उपाय* के तहत शिथिल करना चाहिए।