कोविड-19 के मामलों में तेजी को देखते हुए सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) को आपातकालीन वित्तीय शक्तियां सौंपने हेतु स्वीकृति

 


नई दिल्ली। असल बात न्यूज़।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) को देश भर में इस कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए आपातकालीन वित्तीय शक्तियां सौंपने हेतु स्वीकृति दे दी है। 23 अप्रैल 2021 को जारी आदेश के अनुसारतीनों सेनाओं (थल सेनावायु सेना और नौसेना) के महानिदेशक चिकित्सा सेवातीनों सेनाओं और अंडमान निकोबार कमान के फॉर्मेंशन/ कंमान मुख्यालयों की चिकित्सा शाखाओं के प्रमुखों और जॉइन्ट स्टाफजिनमें नौसेना के कमान मेडिकल ऑफिसर्सवायुसेना के प्रिसिंपल मेडिकल ऑफिसर्स (मेजर जनरल और समकक्ष/ ब्रिगेडियर्स और समकक्ष) शामिल हैंइन्हें आपातकालीन वित्तीय फैसले लेने के लिए शक्तियां प्रदान की गई हैं।

यह आपातकालीन शक्तियां 'मेडिकल शेड्यूल ऑफ पावर्स (एमएसपी) टू डेलिगेशन ऑफ फाइनेंशियल पावर्स टू डिफेंस सर्विसेज 2016 (डीएफपीडीएस)की अनुसूची 8 के एस1 क्रमांक 8.1 के तहत दी गई हैं।

रक्षा बलों को प्रदान की गई वित्तीय शक्तियां इस प्रकार हैं-

चिकित्सा सेवा के महानिदेशक (थल सेनानौसेना और वायुसेना)- 5 करोड़ रुपए

मेजर जनरल और समकक्ष- 3 करोड़ रुपए

ब्रिगेडियर और समकक्ष- 2 करोड़ रूपए

सेना के इन अधिकारियों को यह आपातकालीन शक्तियां 30 सितंबर 2021 तक सौंपी गई हैं जिसके तहत चिकित्सा वस्तुओं/ सामग्रियों/ भंडारों की खरीद में तेजी लाने और उपचार/ प्रबंधन/ कोविड-19 मामलों से निपटने के लिए विभिन्न सेवाओं के प्रावधान के लिए संशोधन/ विस्तार का प्रावधान है।

यह रक्षा मंत्रालय द्वारा सशस्त्र बलों के कर्मियों को चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के साथ-साथ नागरिक प्रशासन को सहायता प्रदान करने का एक सक्रिय कदम है।