गाईड लाईन्स के अनुसार ही करना होगा सोनोग्राफी सेंटर्स का संचालन-कलेक्टर श्री भीम सिंह ; अनियमितता पाये जाने पर होगी सख्त कार्यवाही

 


कलेक्टर श्री सिंह की अध्यक्षता में पीसी एण्ड पीएनडीटी एक्ट की जिला सलाहकार समिति की बैठक संपन्न

रायगढ़, । असल बात न्यूज़।

रायगढ़ के कलेक्टर  भीम सिंह की अध्यक्षता में पीसी एण्ड पीएनडीटी एक्ट 1994 के जिले में सफल क्रियान्वयन हेतु जिला स्तरीय सलाहकार समिति के सदस्यों एवं सोनोग्राफी सेंटर संचालकों एवं चिकित्सकों की संयुक्त बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। इस मौके पर कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जन्म से पूर्व शिशु की लिंग की जांच करना व उसका परिणाम बताना पूर्णत: गैर कानूनी है तथा ऐसा करते पाये जाने पर सजा का प्रावधान है। इस एक्ट के तहत सोनोग्राफी सेंटर्स के संचालन के लिये निर्धारित गाईड लाईन्स है जिनका सख्ती से पालन किया जाये। किसी भी प्रकार की अनियमितता या गड़बड़ी मिलने पर कठोर कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि हमें लिंगानुपात बढ़ाने की दिशा में पूरी गंभीरता से कार्य करना है।
बैठक में सोनोग्राफी सेंटरों के राज्य स्तरीय टीम द्वारा किये गये निरीक्षण का प्रतिवेदन जिला नोडल अधिकारी ने प्रस्तुत किया। उक्त प्रतिवेदन की अनुशंसा के आधार पर पंजीकृत सोनोग्राफी सेंटर्स द्वारा ऑनलाईन फार्म एफ के भरे जाने के संबंध में तथा अन्य अनियमितताओं के चलते दो सोनोग्राफी सेंटर्स डॉ.बी.पी.पटेल तथा आर.एल.अग्रवाल हॉस्पिटल का सोनोग्राफी सेंटर को सील करने के निर्देश कलेक्टर श्री भीम सिंह ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये। इसके साथ ही अन्य संस्थाओं को ऑनलाईन फार्म भरने व एन्ट्री के लिये एक सप्ताह का समय दिया गया है। कोतरा रोड में स्थित आलोक डायग्नोस्टिक तथा अनुपम डायग्नोस्टिक को उस रोड पर यातायात व्यवस्था सुगम बनाये रखने के लिये समुचित पार्किंग व्यवस्था बनाने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री सिंह ने सोनोग्राफी सेंटर्स के नियमित निरीक्षण करने तथा वहां कोविड के संक्रमण रोकथाम के अनुरूप व्यवस्थायें नहीं पाये जाने पर जुर्माना लगाने तथा अन्य अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिये।
इसके साथ ही बैठक में गर्भवती महिलाओं के लिये सोनोग्राफी की दर 700 रुपये तथा बीपीएल परिवार की महिलाओं के लिये 300 रुपयेजन्मजात विकृति की जांच के लिये कंजेनायटल सोनोग्राफी टेस्ट की दर 800 रुपये करने का निर्णय लिया गया। कलेक्टर श्री सिंह ने इन दरों को सोनोग्राफी सेंटर्स में अनिवार्य रूप से लगाने के साथ अधिकारियों तथा जिला स्तरीय सलाहकार समिति के सदस्यों के नाम व नंबर्स लिखने के लिये कहा।
इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरीसीएमएचओ डॉ.एस.एन.केशरीसहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व सोनोग्राफी सेंटर्स संचालक व चिकित्सक तथा जिला स्तरीय सलाहकार समिति के सदस्य उपस्थित रहे।