जो आशंका थी वही हुआ, दुर्ग जिले में 24 घंटों में 233 नए संक्रमित मिले, चार की मौत भी

 रायपुर, दुर्ग। असल बात न्यूज।

सावधानी नहीं बरते जाने तथा भीड़ को नियंत्रित नहीं करने पर दुर्ग जिले के कोरोना का हॉटस्पॉट बनने की ओर बढ़ने की आशंका थी और अब लग रहा है कि वैसा ही हो रहा है। पिछले 24 घंटों के भीतर यहां 233 नए संक्रमित मिले हैं।24 घंटे में इतने अधिक संक्रमित मिलना निश्चित रूप से काफी चिंताजनक है। Corona के संक्रमण से चार लोगों की मौत भी हो गई है। असल में यहां जिसके मन में आ रहा है वह मास्क पहन रहा है और जिसकी इच्छा नहीं हो रही है वह मास्क नहीं पहन रहा है। शासन प्रशासन के द्वारा मास्क नहीं पहनने परजुर्माना जरूर पसंद किया जा रहा है लेकिन लग रहा है कि इससे लोगों में जागरूकता नहीं आ रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी कोरोना से बचाव के लिए गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है, परंतु guide लाइन का पालन नहीं हो रहा है और संक्रमितो की संख्या बढ़ती जा रही है।

Covid-19 के मामले में दुर्ग जिला इस महीने के दूसरे सप्ताह से काफी संवेदनशील हो गया है।यहां प्रतिदिन 24 घंटों में मिलने वाले नए संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पहले जहां 40, 50 नए संक्रमित मिलते थे, अब 24 घंटों में मिलने वाले नए संक्रमितो की संख्या दो सौ के पार होने लगी है। वास्तव में corona का जिस तरह से फैलाव होता हैउसमें ऐसा नहीं है कि शासन प्रशासन ने डंडा चला दिया और सब संक्रमण खत्म हो जाएगा। कई राज्यों में कोरोना को नियंत्रित करने लॉक डाउन का निर्णय ले लिया गया है।


रोड सेफ्टी वर्ल्ड क्रिकेट सीरीज: बिना मास्क के अब नही मिलेगा प्रवेश, मास्क बिना पाए जाने पर होगी कार्रवाई

रायपुर, । कोरोना के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि राजधानी रायपुर में आयोजित हो रहे रोड सेफ्टी वर्ल्ड क्रिकेट सीरीज में दर्शक अब बिना मास्क के स्टेडियम में प्रवेश नही कर सकेंगे।


 मैच के दौरान यदि कोई दर्शक बिना मास्क के पाया जाता है तो उनके विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई भी की जाएगी। ऐसे में एक सवाल यह भी उठ रहा है कि मैच के दौरान दर्शक मास्क संभालेंगे कि मैच का लुत्फ उठाएंगे।


,

               लक्षण दिखने पर तुरंत ेकोरोना जांच कराएं

     बढते संक्रमण को देखते हुए मास्क लगाना,भीड़ से बचने में ही समझदारी है


 राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तीसरे सप्ताह इजाफा हो रहा है। गत सप्ताह 2675 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए। इनमें से 27 व्यक्तियों की मृत्यु हुई जिनमें से  63 प्रतिशत पुरूष और 37 प्र्रतिशत महिलाएं थीं। 27 में से 22 मरीज ऐसे थे जिन्हे कोई अन्य बीमारी भी थी तथा  5 व्यक्तियों को कोई अन्य बीमारी नही थी।

राज्य स्तरीय डेथ आडिट समिति में आज सभी प्रकरणों की समीक्षा की गई। समीक्षा में पाया गया कि गत सप्ताह दुर्ग जिले में सबसे अधिक सात मृत्यृु,रायपुर जिले में 5 मृत्यु हुई है। समीक्षा के दौराना पाया गया कि 33 प्रतिशत मृत्यु अस्पताल में भर्ती होेने के 24 घंटों के अंदर हुई। 60 वर्ष से अधिक के 13 व्यक्तियों की मृत्यु हुई जबकि 45-59 वर्ष के 12 व्यक्तियों की मृत्यु हुई।

  समिति के सदस्य डाॅ ओ पी सुंदरानी ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए और मृत्यु संख्या कम करने के उददेश्य से ही लोगों से बार-बार कहा  जा रहा है कि सर्दी,खांसी ,बुखार आदि के लक्षण दिखने के 24 घंटों के अंदर ही कोरोना जांच कराई जाए। इसके अलावा 45वर्ष से अधिक के व्यक्ति जिन्हे कोई दूसरी बीमारी भी है और 60से वर्ष से अधिक के लोगों को बिल्कुल भी लापरवाही नही बरतनी चाहिए।

   समिति के समक्ष दुर्ग जिले की 57 वर्ष की महिला का प्रकरण रखा गया । महिला केा हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत थी। 16 फरवरी को उन्हे सर्दी,खांसी बुखार आया स्थानीय अप्रशिक्षित चिकित्सक के पास गई और दवाई ली। तबीयत अधिक खराब लगने पर भिलाई के उच्च चिकित्सा संस्थान में भर्ती हुई तब एंटीजेन टेस्ट निगेटिव आया लेकिन टूनाट टेस्ट कराने पर पाजिटिव आया। अस्पताल में तमाम उपचार के बाद भी 5 मार्च को उनकी मृत्यु हो गई। इसीलिए बार -बार सभी को समझाइश दी जा रहाी है कि कोई भी हल्के लक्षण दिखने पर टाले नहीं और 24 घंटे के अंदर कोरोना जांच कराएं।