खुडमुडा कांड का पर्दाफाश, आरोपी पकड़े गए

 

सनसनी खेज खुडमुडा हत्याकांड का पर्दाफाश 

खुलासे में वैज्ञानिक विवेचना का महत्तवपूर्ण योगदान

परिवारिक जमीन संबंधी विवाद बना हत्या का कारण

दुर्ग, भिलाई। असल बात न्यूज।

जिले के पुलिस में पाटन विधानसभा क्षेत्र के खुडमुडा गांव में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या के मामले का पर्दाफाश करने तथा आरोपियों को पकड़ लेने का  दावा किया है। दावा किया जा रहा है क्या करना पारिवारिक जमीन के विवाद के चलते हुई। परिवार के एक सदस्य  ने ही अन्य लोगों के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया। मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उल्लेखनीय है कि इस हत्याकांड को लेकर पूरे प्रदेश में हंगामा मचा रहा है तथा राजनीतिक दलों ने भी इस मुद्दे को लेकर सरकार की जमकर खिंचाई की है।

 पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार थाना अमलेष्वर में सूचना प्राप्त हुई कि थाना क्षेत्र के ग्राम खुडमुडा खार में स्थित बाडी में बालाराम सोनकर की बहू कीर्तिन सोनकर एवं सास दुलारीबाई की हत्या कर बालक दुर्गेश  सोनकर को किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा घायल कर दिया गया है। बालाराम सोनकर तथा रोहित सोनकर की जानकारी नही है कि सूचना पर पुलिस की टीम द्वारा मौके पर पहुंचकर घटना स्थल मुआयना किया गया। बारिकी से निरीक्षण करने पर बालाराम सोनकर एवं रोहित सोनकर का शव भी बाडी में स्थित पानी टंकी से बरामद किया गया। घायल बालक दुर्गेश  को उपचार हेतु अस्पताल भेजा गया। प्रार्थी संजू सोनकर निवासी ग्राम खुडमुडा की रिपोर्ट पर थाना अमलेष्वर में अपराध क्रमांक 144/2020 धारा 302, 307, 201 भादवि का पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया। वरिष्ठ अधिकारियो के द्वारा घटना स्थल पहुंच कर पुलिस अधीक्षक दुर्ग एवं विवेचना में लगे अन्य अधिकारियो को आवष्यक दिशा -निर्देश  दिये। निर्देशानुसार विवेचना के बिन्दु तय करते हुए अलग-अलग टीम बनाकर विवेचना की गई।

घटनास्थल से फोरेंसिक विशेषज्ञ की टीम के सहयोग से भौतिक साक्ष्य संकलित किया गया तथा घटनास्थल की विडियो रिकार्डिंग की गई। मृतको के शव का पंचनामा कार्यवाही कर शव का पी.एम. कराया गया। घटनास्थल से महत्वपूर्ण वस्तुए जप्त की गई। घटनास्थल के आस-पास के निवासियो से बारिकी से पुछताछ कर जानकारी एकत्र की गई।

घटना के पश्चात विवेचना टीम ने वैज्ञानिक एवं तकनिकी साक्ष्य को ध्यान में रखकर बारिकी से विवेचना करते हुए प्रत्येक छोटी से छोटी बिन्दुओ की तह तक पहुंचने के लिए आसूचना संकलित कर तस्दीक किया। विवेचना के दौरान घटना के मूल कारणो में पारिवारिक जमीन संबंधी विवाद सामने आये। इसके आधार पर संदेहियो एवं अन्य का वैज्ञानिक परीक्षण गांधीनगर केन्द्रीय फोरेंसिक लेब से कराया गया। परीक्षण उपरांत महत्वपूर्ण तथ्य उजागर हुए। उन्ही बिन्दुओ को विवेचना का आधार बनाते हुए संदेहियो से पुछताछ की गई।

विवेचना के दौरान यह तथ्य उजागर हुआ कि संदेही गंगाराम सोनकर ने नरेश  सोनकर, योगेश  सोनकर उर्फ महाकाल,एवं रोहित सानेकर उर्फ रोहित मोसा को घटना कारित करने के लिए अपने साथ सम्मलित किया जिसके कारण संदेही गंगाराम सोनकर नरेश  सोनकर, योगेश  सोनकर उर्फ महाकाल एवं रोहित सानेकर उर्फ रोहित मोसा को हिरासत में लेकर पुछताछ करने पर उन्होने बताया कि गंगाराम सोनकर को अपनी सवा एकड़ कृषि भूमि में आने-जाने के लिए रास्ता नहीं होने से अपनी मां मृतिका दुलारीबाई की बाडी से रास्ते की मांग किया था। जिसका मृतिका दुलारीबाई एवं मृतक रोहित (भाई) विरोध करते थे। साथ ही गंगाराम सोनकर के हिस्से की सवा एकड़ कृषि भूमि सोमनाथ के नाम से होने से सोसायटी में धान बेचने के लिए ऋण पुस्तिका नहीं देने एवं खाता पृथक करने की बात को लेकर भी गंगाराम का विवाद, मां दुलारी से हुआ करता था। गंगाराम ने अपनी मां दुलारी को मारने की धमकी भी दिया था। विवेचना के दौरान घटना से संबंधित महत्वपूर्ण साक्ष्य जप्त किया गया। विवेचना में प्राप्त तथ्यो के आधार पर आरोपी 01 योगेश  सोनकर उर्फ महाकाल पिता खेदुराम सोनकर उम्र 34 साल सा. घुघवा 02 नरेश  सोनकर पिता पुनित राम सोनकर उम्र 49 साल सा. घुघवा 03 गंगाराम सोनकर पिता स्व. बालाराम सोनकर उम्र 35 साल सा. खुडमुडा 04 रोहित सोनकर उर्फ रोहित मोसा पिता भुवन लाल सोनकर उम्र 35 साल सा. कोपेडिह थाना अमलेष्वर पर प्रथम दृष्टया अपराध सबुत पाये जाने पर विधिवत गिरफ्तार किया गया।प्रकरण विवेचनाधीन है।